बैंकिंग

आरडी किस्त जमा न करने के ये हो सकते हैं परिणाम

आरडी किस्त जमा न करने के ये हो सकते हैं परिणाम
Vandana Punj
Vandana Punj

जो लोग सुरक्षित निवेश और निश्चित तौर पर रिटर्न पाना चाहते हैं, साथ ही बचत की आदत बनाना चाहते हैं उनके लिए रेकरिंग डिपॉजिट (आरडी) निवेश का एक बेहतर विकल्प है। इसमें आप हर महीने एक निश्चित राशि जमा करते हैं और एक निर्धारित अवधि के बाद जमा राशि ब्याज सहित प्राप्त करते हैं। लेकिन क्या हो अगर किन्हीं कारणों से आप अपनी आरडी किस्त न जमा कर पाएं, आगे इसके बारे में जानने के लिए पढ़ें:

1. भरना होगा पेनल्टी चार्ज

अगर किसी माह आप अपनी आरडी की किस्त का भुगतान नहीं करते हैं तो बैंक या लोन संस्थान पेनल्टी चार्ज लगा सकते हैं। इस पेनल्टी चार्ज की राशि बैंक की पॉलिसी, RD अवधि और कितने समय से आरडी जमा नहीं हुआ है इस पर निर्भर करता है। आमतौर पर बैंक आरडी डिफॉल्ट पर एक फिक्स्ड चार्ज या प्रतिशत निर्धारित रखते हैं। वहीं, कुछ बैंक आरडी किस्त की ड्यू डेट के बाद भी कुछ दिन का ग्रेस पीरियड (कोटक महिंद्रा बैंक में 5 दिन का ग्रेस पीरियड) ऑफर करते हैं। जिस दौरान कोई पेनल्टी चार्ज नहीं लगती। हालांकि अगर पेनल्टी चार्ज लगती है त इसका असर आपके रिटर्न पर देखने को मिलता है।

2. इंटरेस्ट राशि की हानि

किसी माह आरडी की किस्त न देने से का असर आपके ओवरऑल सेविंग पर दिखता है। क्योंकि आरडी पर कंपाउंड इंटरेस्ट कैलकुलेट किया जाता है। आप जिस माह या जितने माह आरडी किस्त नहीं देते है, उतनी राशि पर ब्याज नहीं मिलता है। आप जितनी ज्यादा अवधि के लिए आरडी भुगतान से चूकेंगे उतना अधिक इंटरेस्ट हानि आपको झेलना होगा।

ये भी पढ़ें: अपने पैसे कहां करें इन्वेस्ट? जानिए निवेश के इन प्रकारों को

3. आरडी अकाउंट बंद हो सकता है

अगर कोई जमाकर्ता लगातार कुछ महीनों तक आरडी की किस्त जमा नहीं करता है, तो बैंक उसका खाता हमेशा के लिए डिएक्टिवेट या बंद कर सकता है। यह खाता तब तक बंद रहेगा जब तक जमाकर्ता अपनी बकाया किस्त पेनल्टी चार्ज समेत जमा नहीं कर देता। यह समयावधि 3 से 5 या 6 महीनों की हो सकती है। हालांकि यह बैंक की पॉलिसी पर निर्भर करता है कि कितने महीनों तक किस्त न देने से अकाउंट बंद हो जाएगा।

4. आपके वित्तीय लक्ष्य प्रभावित होते हैं

आरडी किस्त चूकने से आपके फाइनेंशियल गोल प्रभावित हो सकता है। जैसे- आप पढ़ाई खर्च के लिए प्रति माह 5,000 रु. 24 महीनों के लिए जमा कर रहे हैं। 2 साल बाद आपकी कुल जमा राशि 1.20 लाख रु. होगी। लेकिन अगर कुछ महीनों के लिए आरडी किस्त का भुगतान नहीं करते है तो मैच्योरिटी पर मिलने वाली राशि आपके निर्धारित लक्ष्य से कम होगी। इस तरह आपके शॉर्ट टर्म या लॉन्ग टर्म वित्तीय लक्ष्य प्रभावित होगें।

निष्कर्ष

आरडी की किस्त भुगतान चूकने से क्या नुकसान हो सकता है, ये जानने के बाद जरूरी है कि आप इसमें नियमित रूप से पैसे जमा करें। तभी आप इस निवेश विकल्प का पूरा लाभ उठा पाएंगे और अपने शॉर्ट और लॉन्ग टर्म वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने में सफल हो पाएंगे। अगर आपको हर माह आरडी जमा करना याद नहीं रहता है तो ऑटोमैटिक पे का सहारा ले सकते है। लेकिन अगर अन्य कारणों से आरडी किस्त मिस हो रही है तो सलाह दी जाती है कि आप अपने बैंक से बात करें और किसी वैकल्पिक समाधान पर विचार करें। ताकि आपके वित्तीय लक्ष्य प्रभावित न हो।

अन्य ब्लॉग

SBI MUDRA Loan- जानें एसबीआई ई-मुद्रा लोन क्या है और...

Vandana Punj
Vandana Punj

कैश क्रेडिट (Cash Credit) एक शॉर्ट टर्म लोन होता है,...

Vandana Punj
Vandana Punj

PAN Card Form- जानें पैन कार्ड फॉर्म 49A और 49AA क्य...

Vandana Punj
Vandana Punj