बिज़नेस लोन

Mudra Loan: छोटे व्यवसाय के लिए मुद्रा लोन है सर्वश्रेष्ठ विकल्प, जानिए क्यों 

Mudra Loan: छोटे व्यवसाय के लिए मुद्रा लोन है सर्वश्रेष्ठ विकल्प, जानिए क्यों 
Nikita
Nikita

NSSO सर्वे (2013) के अनुसार, देश में लगभग 5.77 करोड़ छोटी/माइक्रो यूनिट्स हैं, जिनमें लगभग 12 करोड़ लोग शामिल हैं। इस यूनिट में ज्यादातर इंडिविजुअल प्रोपराइटरशिप (एकल स्वामित्व वाला व्यवसाय जो एक ही व्यक्ति द्वारा स्थापित और संभाला जाता हो) हैं। 60% से अधिक यूनिट की ओनरशिप अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति या अन्य पिछड़ा वर्ग के व्यक्तियों के पास है। जिसके चलते इनमें से कई यूनिट्स है जो औपचारिक तौर पर बैंकिंग सिस्टम से बाहर हैं। इसलिए उन्हें अपना कारोबार चलाने के लिए दूसरे लोगों से उधार लेना पड़ता है या वह मजबूर होकर अपनी बची हुई धनराशि उपयोग कर लेते है। इस परेशानी का हल भारत सरकार ने निकाला और 08 अप्रैल 2015 को मुद्रा लोन (Mudra Loan) योजना को पेश किया।

तो आइए इस आर्टिकल में जानते है कि मुद्रा लोन आपके नए व्यवसाय शुरू करने या अपने व्यवसाय को और आगे बढ़ाने में कैसे मददगार साबित हुआ है: 

MUDRA का मतलब माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड है। मुद्रा लोन भारत सरकार की एक पहल है जो देश के सभी नागरिकों को अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने या उस व्यवसाय को और बढ़ाने के लिए प्रदान किया जाता है। पीएम मुद्रा लोन योजना के माध्यम से 50,000 रुपए से लेकर 10 लाख रुपए तक का लोन ले सकते हैं। लोन की शर्तें MSME, स्टार्टअप और छोटे बिजनेस को और बढ़ाने को प्रोत्साहित करने के लिए तैयार की गई हैं। 

ये भी पढ़ें: रहना है पर्सनल लोन घोटालों से सावधान तो इन बातों का रखें खास ध्यान

प्रधान मंत्री मुद्रा योजना तीन प्रकार के लोन प्रदान करती है: 

  • शिशु, किशोर और तरुण। शिशु लोन 50,000 रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान करता है। 
  • अगर आप किशोर लोन लेने के लिए आवेदन करते है तो इसमें आपको 50 हजार से लेकर 5 लाख तक का लोन मिल जाएगा।
  • यदि आप तरुण लोन के तहत आवेदन करते है तो आपको 5 लाख रूपये से लेकर 10 लाख रुपए तक का लोन मिल सकता है। 

मुद्रा लोन योजना के लाभ 

किसी कोलैटरल की आवश्यकता नहीं

मुद्रा लोन के बारे में सबसे अच्छी चीजों में से एक यह है कि आपको कोलैटरल/ सिक्योरिटी के रूप में कुछ भी जमा करने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि कई बार छोटे व्यवसाय मालिकों के पास सिक्योरिटी के रूप में कोई भी संपत्ति जमा करने के लिए नहीं होती या वे अपनी संपत्ति को जोखिम में नहीं डालना चाहते हैं इसलिए वह लोन लेने से कतराते है पर मुद्रा लोन प्राप्त करने के लिए आपको कुछ भी गिरवी रखने की जरुरत नहीं हैं। 

दूसरे लोन के मुकाबले कम ब्याज दर 

जब पैसे उधार लेने की बात आती है तो यह शायद सबसे महत्वपूर्ण कारक ब्याज दर है। मुद्रा लोन की ब्याज दर आम तौर पर उस बैंक या लोन संस्थान पर निर्भर करती है जिससे आवेदक लोन ले रहा है। हालांकि दूसरे लोन के मुकाबले मुद्रा लोन की ब्याज दरें अधिकांश निजी बैंकों द्वारा दी जाने वाली दरों से कम होती हैं। इससे छोटी कंपनी और छोटे व्यवसायों के लिए अपना कर्ज चुकाना आसान हो जाता है। सरकार मुद्रा लोन के लिए ब्याज दरें निर्धारित करती है। 

ये भी पढ़ें: रिवर्स मॉर्गेज लोन हो सकता है आपके बुढ़ापे का हेल्पिंग हैंड: जानिए कैसे?

मुद्रा लोन में सरकार होती है गारंटर

इस योजना को स्टार्टअप और छोटे उद्यमियों को दिया जाने वाले लोन पर सरकार गारंटर के रूप में खड़ी होती है जो बैंकों के लिए एक आरामदायक कारक है। डिफॉल्ट के मामले में, जिम्मेदारी सरकार द्वारा ली जाती है। यह सुविधा मौजूदा आवेदकों के लिए बहुत फायदेमंद है जो लोन ली गई धनराशि को अपने कारोबार के लिए निवेश कर सकते हैं। 

मुद्रा लोन प्राप्त करने की प्रक्रिया है काफी आसान

मुद्रा लोन प्राप्त करने की पूरी प्रक्रिया आसान है जो इसे छोटे व्यवसाय मालिकों के लिए एक अच्छा विकल्प है जिन्हें जल्दी से अपना बिजनेस शुरू करने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है। 

विभिन्न उद्देश्य के लिए करें मुद्रा लोन का इस्तेमाल 

मुद्रा लोन का उपयोग कई अलग-अलग चीजों के लिए किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, मशीनरी, इस्तेमाल होने वाले उपकरण या वाहन खरीदने के लिए कर सकते हैं जो उनके व्यवसाय के लिए आवश्यक हैं। मुद्रा इस लोन का उपयोग किसी किराया, इन्वेंट्री और मजदूरी देने के लिए भी कर सकते हैं। इसके साथ बिजनेस के लिए नई जगह, अधिक लोगों को काम पर रखने या मार्केटिंग से अपने बिजनेस का प्रचार करके बिजनेस को आगे बढ़ने के लिए मुद्रा लोन का उपयोग कर सकते हैं। 

ये भी पढ़ें: बिज़नेस के लिए है तुरंत पैसों की ज़रूरत? इन तरीकों से करें पूरी

मुद्रा कार्ड से निकाल सकते हैं लोन राशि 

मुद्रा लोन के लिए आवेदन करने और लोन मिलने के बाद आपका अकाउंट खोला जाएगा और आपको एक मुद्रा कार्ड प्राप्त होता है, जो एक डेबिट कार्ड की तरह होता है। यह कार्ड आपको अपने मुद्रा अकाउंट से पैसे निकालने की अनुमति देता है।

अन्य ब्लॉग

पर्सनल लोन एक अनसिक्योर्ड लोन होता है, यानी इस लोन क...

Vandana Punj
Vandana Punj
NEFT क्या है? NEFT का फुल फॉर्म और यह कैसे काम करता है? जानिए सबकुछ

आज के इस आर्टिकल में हम NEFT के प्रमुख पहलुओं पर चर्...

Nikita
Nikita
Difference Between IMPS, NEFT & RTGS: फुल फॉर्म, ट्रांजैक्शन लिमिट, फीस और सर्विस टाइमिंग के साथ जानिए सबकुछ

आजकल, एनईएफटी, आरटीजीएस और आईएमपीएस जैसे विभिन्न ऑनल...

Nikita
Nikita