क्रेडिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड में क्या है मिनिमम अमाउंट ड्यू और उसके नफा-नुकसान

क्रेडिट कार्ड में क्या है मिनिमम अमाउंट ड्यू और उसके नफा-नुकसान
Vandana Punj
Vandana Punj

क्रेडिट कार्ड लोगों को कई सारे बेनिफिट्स जैसे- भुगतान में आसानी, 40-45 दिन का फ्री क्रेडिट पीरियड, रिवॉर्ड-पॉइंट, कैशबैक और डिस्काउंट जैसी सुविधाएं ऑफर करता है। इन सारी बेनिफिट्स के इतर क्रेडिट कार्ड ओवरस्पेडिंग जैसे कुछ रिस्क के साथ भी आता है। अगर आप किसी महीने अपने क्रेडिट कार्ड बिल का पूरा भुगतान नहीं कर पाते हैं तो मिनिमम अमाउंट ड्यू पे सकते हैं। चलिए इसके बारे में और अधिक जानते हैं:

मिनिमम अमाउंट ड्यू क्या है?

क्रेडिट कार्ड हमें पहले खरीदारी और बाद में भुगतान की अनुमति देता है। ये भुगतान हमें ड्यू डेट (क्रेडिट कार्ड पेमेंट करने की अंतिम तारीख) से पहले करना होता। अगर हम क्रेडिट कार्ड बिल का पूरा भुगतान करने में असमर्थ हैं तो न्यूनतम राशि का भुगतान भी कर सकते हैं। यानी ड्यू डेट पर या उससे पहले क्रेडिट कार्ड बिल के न्यूनतम राशि का भुगतान करना, मिनिमम अमाउंट ड्यू कहलाता है। अगर आप हर बार मिनिमम ड्यू अमाउंट का पेमेंट करते हैं तो जानें कि इसका आपके फाइनेंशिय प्लान पर क्या असर पड़ सकता है।

क्रेडिट कार्ड मिनिमम ड्यू के फायदे

  • मिनिमम अमाउंट ड्यू का भुगतान कर आप लेट पेमेंट चार्ज से बच जाते हैं। हालांकि बकाया राशि पर अगले भुगतान तक ब्याज वसूला जाता है।
  • आपका क्रेडिट कार्ड एक्टिव रहता है। साथ ही आपका क्रेडिट स्कोर भी मैंटेन रहता है।
  • क्रेडिट कार्ड बिल का न्यूनतम भुगतान करने का सबसे बड़ा फायदा ये होता है आपको 40-45 दिन का इंटरेस्ट फ्री पीरियड मिल जाता है।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट के क्या हो सकते हैं परिणाम

क्रेडिट कार्ड मिनिमम ड्यू के नुकसान

  • भुगतान न करने की वजह से आपका क्रेडिट लिमिट भी कम हो सकता है।
  • आपका सीबिल स्कोर भी कम होगा।
  • बैंक आपकी पहचान ऐसे ग्राहक के रूप में करेगा, जिसके पास लिक्विडिटी की कमी है।
  • सबसे बड़ी बात आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। वो ऐसे कि लंबे समय तक मिनिमम अमाउंट ड्यू का भुगतान करते रहने से कर्ज का बोझ बढ़ जाएगा।

इसे उदाहरण से समझें- एक बिलिंग साइकिल के दौरान आपने 30,000 रु. खर्च किए। मिनिमम अमाउंट ड्यू के तहत सिर्फ 15,000 रु. का भुगतान किया। इस तरह इस बिलिंग साइकिल में 15,000 रु. बकाया राशि रह गई। अगले बिलिंग साइकिल में आपने फिर 40 हजार रु. खर्च कर दिया। तो इस बिलिंग साइकिल में आपको कुल (40,000 +15,000) 55,000 रु. + बकाया राशि पर इंटरेस्ट का भुगतान करना होगा। ये इंटरेस्ट कार्ड प्रदाता की पॉलिसी पर निर्भर करता है। ये चक्र अगर ऐसे ही चलता रहा तो आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड के कर्ज़ में फंस गए हैं? इन तरीकों की मदद से पाएं छुटकारा

निष्कर्ष

मिनिमम अमाउंट ड्यू के फायदे से ज्यादा इसके गंभीर नुकसान है। इसलिए सलाह दी जाती है कि क्रेडिट कार्ड बिल का पूरा भुगतान करने की कोशिश करें। जब पूरा बिल पे करना बहुत मुश्किल हो तब ही मिनिमम अमाउंट ड्यू का ऑप्शन चुनें। क्योंकि मिनिमम अमाउंट ड्यू भुगतान की प्रक्रिया अगर लंबी चलती रही, तो आप कर्ज के भवर में भी फंस सकते हैं।

अन्य ब्लॉग

Corporate FD Vs Bank FD: कॉर्पोरेट एफडी क्या होता है और ये बैंक एफडी से कैसे अलग है?

फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) भारत में सबसे लोकप्रिय निवेश ...

Vandana Punj
Vandana Punj
मल्टीकैप और फ्लेक्सी कैप फंड क्या है? कौन-सा है बेहतर

देश में सारी कंपनियों को उनकी मार्केट वैल्यू (मार्के...

Bharti
Bharti
क्या है पोर्टफोलियो री-बैलेंसिंग? इसे करना क्यों ज़रूरी है?

किसी भी शेयर में पैसा लगाने से पहले इन्वेस्टर अपने न...

Bharti
Bharti