बैंकिंग

जानिए नॉमिनी का चुनाव करना क्यों है इतना महत्वपूर्ण

जानिए नॉमिनी का चुनाव करना क्यों है इतना महत्वपूर्ण
Nikita
Nikita

आपने अक्सर ध्यान दिया होगा कि जब भी आप किसी निवेश के लिए फॉर्म भरते हैं, चाहे वह फिक्स्ड डिपॉजिट हो या म्यूचुअल फंड या फिर आप एक नया बैंक अकाउंट खुलवा रहें हो, तो उसी फॉर्म में एक अलग सेक्शन होता है जिसमे आप से ‘नॉमिनी’ के बारे में जानकारी भरने को कहा जाता है। अक्सर बहुत से लोगों द्वारा इस सेक्शन को खाली छोड़ दिया जाता है, लेकिन ऐसा करना सही नहीं है। आरबीआई भी आपको नॉमिनी चुनने की सलाह देता है। आज के इस लेख में हम आपको बताने वाले है कि नॉमिनी कौन होता है और उसकी डिटेल्स अन्य जरूरी डिटेल्स जितनी ही महत्वपूर्ण क्यों है? 

नॉमिनेशन क्या है?

वह प्रक्रिया जिसमें निवेश या संपत्ति को निवेशक की  मृत्यु के बाद उसके द्वारा चुने गए  व्यक्ति (नॉमिनी) को ट्रांसफर करने की मंजूरी नॉमिनेशन कहलाती है। निवेशक की मृत्यु पर, यह रकम नॉमिनी व्यक्ति को दे दी जाती है। आप निम्नलिखित में से किसी को भी अपना नॉमिनी व्यक्ति बना सकते हैं, और यह इस पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार का निवेश कर रहे हैं:

  • माता-पिता 
  • जीवनसाथी
  • भाई बहन
  • बच्चे
  • कोई रिश्तेदार
  • संस्था या ट्रस्ट 
  • या फिर दोस्त 

ये भी पढ़ें: अपने लिए बेस्ट टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहते हैं? इन बातों का ध्यान रखना है ज़रूरी

नॉमिनी कौन होता है?

प्रॉपर्टी, निवेश या बीमा से जुड़ी किसी भी स्किम में देखा गया हैं कि आपको नॉमिनी का विकल्प भरने को कहा जाता हैं इसका मुख्य कारण यह है कि यदि किसी भी कारण निवेशक की मृत्यु हो जाती है तो उनके द्वारा चुने गए व्यक्ति (नॉमिनी) को उस प्रॉपर्टी या उस पॉलिसी के पैसों को लेकर क्‍लेम करने का अधिकार होता हैं। लेकिन इस बात पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि सिर्फ नॉमिनी बनने से प्रॉपर्टी या पैसों पर हक नहीं मिल जाता। नॉमिनी क्लेम कर सकता है पर अगर मरने वाले के उत्‍तराधिकारी हैं, तो वे अपने हक के लिए उस राशि या प्रॉपर्टी के लिए दावा कर सकते हैं। 

नॉमिनेशन भरते समय ध्यान रखने योग्य बातें

  • व्यक्ति को पूरा नाम, उम्र, पता और नॉमिनी व्यक्ति के साथ संबंध की सही जानकारी दें। यदि नॉमिनी व्यक्ति, जो कानूनी रूप से उत्तराधिकारी भी है, नाबालिग है, तो निवेशक को एक ऐसे व्यक्ति को नियुक्त करना होगा जो सही और पूरी जानकारी के साथ नाबालिग के वयस्क होने पर संपत्ति उसे ट्रांसफर कर दें।
  • इसके अलावा आप अलग-अलग संपत्तियों के लिए अलग-अलग व्यक्ति को  नॉमिनी चुन सकते हैं। उदाहरण के लिए, आप अपनी जीवन बीमा पॉलिसी में अपने जीवनसाथी का नाम,  प्रोविडेंट फंड में माता पिता का नाम रख सकते हैं, जबकि आपका म्यूचुअल फंड अपने बच्चों के नाम पर हो सकता है। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि आप अपनी आय के आधार पर प्रत्येक के लिए कुछ न कुछ बचत करके जा रहें हैं।
  • कुछ निवेश स्कीम्स है जिसमे आप एक से ज्यादा नॉमिनी बना सकते हैं और ये भी बता सकते हैं कि आप उनमें से प्रत्येक को अपने पैसे का कितना प्रतिशत देना चाहते हैं। यदि प्रतिशत के बारे में नहीं बताया गया है, तो संपत्ति/पैसे  नॉमिनी व्यक्तियों के बीच बराबर बांट दी जाती है।

उदाहरण के लिए: आप अपने बैंक अकाउंट में केवल एक नॉमिनी का नाम डाल सकते हैं वहीं दूसरी तरफ आपको अपने EPF में प्रत्येक नॉमिनी को जितना प्रतिशत देना चाहते है ये बताना होगा।

  • यदि आपके नॉमिनी की मृत्यु हो जाती हैं या अन्य कारण से अपने नॉमिनी को बदलना चाहते हैं, तो आपको नॉमिनी की डिटेल्स को अपडेट करने के लिए अधिकारी से संपर्क करना होगा।

ये भी पढ़ें: अपने और अपने परिवार की सुरक्षा चाहते हैं? ये हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी ज़रूर लें

नॉमिनेशन और नॉमिनी क्यों महत्वपूर्ण है?

  • नॉमिनेशन और नॉमिनी का चुनाव करने के पीछे एक प्रमुख कारण है। यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाने पर उनकी निवेश की राशि या प्रॉपर्टी उनके द्वारा चुने गए नॉमिनी को ट्रांसफर किया जा सकता है। पर यदि कोई नॉमिनी व्यक्ति नहीं चुना गया है, तो परिवार या कानूनी उत्तराधिकारियों को मृत व्यक्ति के निवेश और संपत्ति प्राप्त करने के लिए एक लंबी और कठिन प्रक्रिया से गुजरना होगा।
  • नॉमिनेशन न होने की स्थिति में क्लेम करने की पूरी प्रक्रिया में लंबा इंतजार तो करना पड़ता ही है इसके साथ ही परिवार वालों को रिश्तेदारी साबित करने के लिए वसीयत, प्रमाणपत्र या अन्य दस्तावेज़ पेश करने होंगे। ऐसी स्थिति तनाव के साथ परेशानी पैदा कर सकती है। 
  • यदि निवेशक की मृत्यु हो जाती है पर उसके द्वारा नॉमिनी बनाया गया है, तो उन्हें उस निवेश को अपने नाम पर ट्रांसफर करने के लिए क्लेम करते समय अपना पता प्रमाण, बैंक डिटेल्स और आईडी प्रूफ देना होगा।

ये भी पढ़ें: हेल्थ इंश्योरेंस में ‘वेटिंग पीरियड’ और ‘सर्वाइवल पीरियड’ के बीच क्या है अंतर

निष्कर्ष 

अब आप जानते हैं कि नॉमिनी चुनने का महत्व क्या है और अपने सभी निवेशों के लिए नॉमिनी नियुक्त करना कितना आसान है। इसलिए  हम आपको सलाह देते हैं कि अपनी नॉमिनेशन प्रक्रिया पूरी करें और सोच समझ कर नॉमिनी का चुनाव करें। यदि कल को कोई दुर्घटना हो भी जाती है तो आप अपने प्रियजनों को कई परेशानियों से बचाएंगे। किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना की स्थिति में यह आपके प्रियजनों के लिए एक बड़ी मदद होगी।

अन्य ब्लॉग

SBI MUDRA Loan- जानें एसबीआई ई-मुद्रा लोन क्या है और...

Vandana Punj
Vandana Punj

कैश क्रेडिट (Cash Credit) एक शॉर्ट टर्म लोन होता है,...

Vandana Punj
Vandana Punj

PAN Card Form- जानें पैन कार्ड फॉर्म 49A और 49AA क्य...

Vandana Punj
Vandana Punj