क्रेडिट स्कोर

सिबिल रिपोर्ट में हो सकती हैं ये गलतियां, ऐसे करें ठीक

सिबिल रिपोर्ट में हो सकती हैं ये गलतियां, ऐसे करें ठीक
Bharti
Bharti

आपका क्रेडिट स्कोर आपके क्रेडिट रिपोर्ट के आधार पर कैलकुलेट किया जाता है। ऐसे में अगर क्रेडिट रिपोर्ट में ही कोई गड़बड़ी हो जाती है, तो इसका प्रभाव आपके क्रेडिट स्कोर पर पड़ता है। जैसा कि आप जानते हैं बैंक अपने कस्टमर्स की लोन व क्रेडिट कार्ड संबंधित जानकारी सिबिल को भेजते हैं और सिबिल उसी के आधार पर आपकी सिबिल रिपोर्ट को तैयार करता है।

कई बार सिबिल द्वारा खूद या फिर बैंक द्वारा भेजी गई गलत जानकारी की वजह से आपकी सिबिल रिपोर्ट में गड़बड़ी हो जाती हैं। इस लेख में हम बताएँगे कि आप अपनी सिबिल रिपोर्ट में दर्ज गलत जानकारी को कैसे सही कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट रिपोर्ट में क्या फर्क है?

पर्सनल और अकाउंट डिटेल्स में गलती

क्रेडिट रिपोर्ट में नाम, पता, जन्म तिथि और पैन कार्ड से संबंधित कोई भी गलती या लोन अकाउंट से संबंधित गलती होने पर आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

बकाया लोन राशि की गलत जानकारी

अगर आपके सिबिल रिपोर्ट में बकाया लोन राशि गलत दी हुई है तो उसे तुरंत ठीक कर लेना चाहिए, क्योंकि ये आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकता है। ऐसे में इसे तुरंत ठीक कराना ज़रूरी है। इसलिए नियमित रूप से सिबिल रिपोर्ट चेक करें। अगर रिपोर्ट में कोई गलती होती है तो सिबिल डिस्प्यूट फॉर्म भरें। आपकी जानकारी वेरिफाई करने के बाद सिबिल इन गलतियों को ठीक कर देगा।

ये भी पढ़ें: रोज़ाना क्रेडिट रिपोर्ट चेक करना है ज़रूरी, मिलते हैं ये लाभ। 

डेज़ पास्ट ड्यू (DPD) चेक करें

Days Past Due (DPD) में बताया जाता है कि आपने कितने दिनों की देरी से अपने लोन की किस्त या क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान किया है। अगर आपने समय पर भुगतान किया है तो इसमें ‘000’ या “XXX” लिखा होगा। वहीं अगर आप भुगतान में देरी करते हैं तो इसकी जगह आपने भुगतान में जितने दिनों की देरी की है उतना ही इसमें दिखाया जाएगा।अगर आपने समय पर भुगतान किया है लेकिन फिर भी DPD में भुगतान में देरी दिखा रहा है तो अपनी रिपोर्ट में ये जानकारी जल्द से जल्द सही करा लें।

क्रेडिट अकाउंट स्टेटस (एक्टिव या बंद हो चुके)

लोन का भुगतान करने के बाद लोन अकाउंट बंद कर दिया जाता है। लेकिन कई बार बैंक सिबिल को इस बारे में सूचित नहीं करते जिस वजह से रिपोर्ट में अकाउंट एक्टिव दिखाया जाता है। ऐसे में बैंक को संपर्क कर इसे ठीक करवाएं। इसके अलावा कभी-कभी कुछ ऐसे अकाउंट भी आपके सिबिल रिपोर्ट में दिखाए जाते हैं, जो असल में आपके है ही नहीं। यह या तो प्रशासनिक गलती हो सकती है या किसी ने आपने नाम पर फ्रॉड किया है। ऐसे में इससे ठीक करने के लिए तुरंत सिबिल डिस्प्यूट फॉर्म भरें।

ये भी पढ़ें: इन वजहों से आपका क्रेडिट स्कोर प्रभावित हो सकता है।

भुगतान के बाद भी राशि ओवरड्यू दिखाना

कई बार लोन के भुगतान के बाद पेमेंट हिस्ट्री में राशि बकाया या पेमेंट डिफॉल्ट लिखा हो सकता है। दरअसल, बैंक सिबिल को आपका डेटा हर 30 से 45 दिन में भेजते हैं। अगर आप लोन का भुगतान करने के 45 दिनों के अन्दर रिपोर्ट चेक करते हैं, तो हो सकता है भुगतान की जानकारी अभी अपडेट ही न हुई हो। हालांकि, अगर 2 महीने बाद भी डेटा अपडेट नहीं होता तो आप सिबिल से डेटा अपडेट करने की रिक्वेस्ट कर सकते हैं।

 

अन्य ब्लॉग

पैन कार्ड के लिए अप्लाई करने के बाद उसका स्टेटस चेक ...

Bharti
Bharti

प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारी अपने रिटायरमेंट दिनों के...

Vandana Punj
Vandana Punj

अगर आप भी अपना बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं? लेकिन सम...

Vandana Punj
Vandana Punj