क्रेडिट कार्ड

जरूरतें हैं कई, जानें कितने क्रेडिट कार्ड होंगे आपके लिए सही

जरूरतें हैं कई, जानें कितने क्रेडिट कार्ड होंगे आपके लिए सही
Vandana Punj
Vandana Punj

जब क्रेडिट कार्ड की बात आती है तो हमें समझ नहीं आता कि हमें कितने क्रेडिट कार्ड रखने चाहिए। हालांकि कार्ड्स की संख्या ज्यादा मायने नहीं रखती, जरूरी ये है कि आपके पास जो क्रेडिट कार्ड है वो आपकी जरूरतों को पूरा करने वाला होना चाहिए। लेकिन एक ही क्रेडिट कार्ड आपकी सभी जरूरतों को भी पूरा नहीं कर सकता। ऐसे में आपको कितने क्रेडिट कार्ड्स रखने चाहिए, मल्टीप्ल क्रेडिट कार्डस के फायदे और नुकसान क्या हैं, आइए इस लेख में जानते हैं:

कितने क्रेडिट कार्ड रखने चाहिए?

किसी व्यक्ति को कितने क्रेडिट कार्ड्स रखना चाहिए, इसकी कोई एक निर्धारित संख्या नहीं है। कार्ड्स की संख्या आपकी जरूरत पर निर्भर करती है। आप चाहे तो एक क्रेडिट कार्ड भी रख सकते हैं जो आपकी अधिकतर जरूरतों को पूरा करता हो, और चाहे तो एक से अधिक क्रेडिट कार्ड्स भी रख सकते हैं। आमतौर पर लोग दो क्रेडिट कार्ड रखते हैं। एक- बेसिक क्रेडिट कार्ड जो स्टैंडर्ड बेनिफिट ऑफर करता है और दूसरा- खर्च आधारित एकस्ट्रा बेनिफिट ऑफर करने वाला कार्ड।

उदाहरण से समझें- अगर आप अक्सर ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं और ट्रैवल करना भी पसंद है। तो प्रत्येक आवश्यकता के लिए एक कार्ड रखना सही हो सकता है। ट्रैवल क्रेडिट कार्ड जो टिकट बुकिंग पर छूट, लाउंज एक्सेस और माइल्स जैसे बेनिफिट प्रदान करता हो। वहीं, एक ऐसा क्रेडिट कार्ड जो ऑनलाइन शॉपिंग पर कैशबैक और रिवॉर्ड पॉइंट्स ऑफर करता हो। इस तरह आप दोनों कैटेगरी में अपनी बचत अधिकतम कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: एक से ज़्यादा क्रेडिट कार्ड हैं, तो उन्हें इन टिप्स की मदद से मैनेज करें

मल्टीप्ल क्रेडिट कार्ड्स के फायदे

कई सारे क्रेडिट कार्ड्स मिलकर आपके क्रेडिट यूटीलाइजेशन रेश्यो (सीयूआर) को कम रखने में मदद करते हैं। सीयूआर का मतलब है कि आप अपने क्रेडिट कार्ड लिमिट का एक महीने में कितना खर्च करते हैं।

  • क्रेडिट स्कोर बनाने में मददगार: सीयूआर का सीधा असर आपके क्रेडिट स्कोर पर पड़ता है। सीयूआर का कम होना आपके अच्छे फाइनेंशियल बिहेवियर को दिखाता है। जब आपके पास एक ही क्रेडिट कार्ड होता है तो क्रेडिट यूटीलाइजेशन रेश्यो 30 फीसदी के अंदर रखना काफी मुश्किल हो सकता है। ऐसे में अतिरिक्त क्रेडिट कार्ड काम आता है। अगर आपके पास कोई नया क्रेडिट कार्ड है, जिसका आप बहुत कम इस्तेमाल करते हैं या पूरी क्रेडिट लिमिट फ्री रखते हैं तो ये आपके क्रेडिट स्कोर को सुधारने में मददगार हो सकता है।
  • बचत में सहायक: आप जिस कैटेगरी में अधिक खर्च करते हैं उससे संबंधित दूसरा क्रेडिट कार्ड लेकर आप अधिक बचत कर सकते हैं। जैसे अगर आपके पास पहले से ट्रैवल क्रेडिट कार्ड है। आप अक्सर ऑनलाइन शॉपिंग भी करते रहते हैं तो ऐसे में शॉपिंग पर रिवॉर्ड देने वाला अन्य कार्ड ले सकते हैं।
  • सीयूआर मैनेंज में मददगार: कई सारे कार्ड रखने से क्रेडिट लिमिट बढ़ जाती है, जिससे सीयूआर कम रखने में मदद मिलती है।
  • फाइनेंशियल बैकअप: अतिरिक्त क्रेडिट कार्ड इमरजेंसी में फाइनेंशियल बैकअप के तौर पर काम आ सकता है।

बहुत सारे क्रेडिट कार्ड रखने के नुकसान

आपके पास एक क्रेडिट कार्ड हो या तीन। ये आपके लिए तब नुकसानदेह हो सकता है जब आप इन कार्ड्स को सही से मैनेंज नहीं करते हैं। क्रेडिट कार्ड आपको खरीदारी की सुविधा देता है। इसकी मदद से आप सामान का किस्तों में आसानी से भुगतान कर सकते हैं। लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि आप अपनी हर खरीदारी के लिए क्रेडिट कार्ड पर निर्भर रहें। हर महीने अपनी पूरी क्रेडिट लिमिट का इस्तेमाल करें। ऐसा करने से आपका क्रेडिट स्कोर कम होता है। साथ ही ये भी दिखाता है कि आप अपनी हर खरीदारी के लिए क्रेडिट कार्ड पर निर्भर हैं। अगर आप अपने क्रे़डिट कार्ड बिल का समय से भुगतान नहीं करते हैं तो कर्ज के जाल में फंस सकते हैं।

इसलिए यदि आप खुद को लापरवाही से खर्च करने वाला मानते हैं, तो बेहतर होगा कि आप केवल उतने ही क्रेडिट कार्ड रखें जितनी आपको वास्तव में जरूरत है। कई क्रेडिट कार्ड का बकाया चूकने से न केवल आपके क्रेडिट स्कोर पर नाकारात्मक असर पड़ता है, बल्कि आपको जुर्माने के रूप में भारी रकम भी चुकानी पड़ सकती है।

इसलिए कई क्रेडिट कार्ड लेने से पहले कुछ बातों पर विचार करें:

  • कार्ड पर लगने वाला वार्षिक फीस उसके द्वारा ऑफर किया जाने वाले रिवॉर्ड पॉइंट के लायक है?
  • क्या आप एक साथ कई क्रेडिट कार्डस के अकाउंट को मैनेंज कर सकते हैं?
  • क्या कार्ड पर मिलने वाले सभी रिवॉर्ड पॉइंट और एयर माइल्स को आप एक्सपायर होने से पहले रिडिम कर सकते हैं?

ज्यादा क्रेडिट कार्ड आपको अधिक खरीदारी करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट स्कोर के बिना भी मिल सकता है क्रेडिट कार्ड, जानें कैसे

निष्कर्ष

क्रेडिट कार्ड वरदान या अभिशाप दोनों बन सकता है। ये आपके इस्तेमाल करने के तरीके पर निर्भर करता है। अतिरिक्त क्रेडिट कार्ड से आपकी क्रेडिट लिमिट, पर्चेजिंग पावर तो बढ़ती ही है, समझदारी से इस्तेमाल करने पर अलग-अलग कैटेगरी में बचत भी कर सकते हैं। वहीं, कार्ड का समय से बिल भुगतान न करने, एनुअल फीस न भरने से पेनल्टी भरनी पड़ सकती है और ऐसे आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। इसलिए एक से अधिक क्रेडिट कार्ड तब ही लें जब आपको लगे कि आप उसका सही से इस्तेमाल कर पाएंगे और मल्टीप्ल क्रेडिट अकाउंट मैनेंज करने में सक्षम हैं। अपने लिए बेस्ट क्रेडिट कार्ड चुनते समय कुछ बातों का ध्यान रखें।

अन्य ब्लॉग

दस्तावेजों को आधार कार्ड से लिंक करने की प्रक्रिया म...

Vandana Punj
Vandana Punj

धनी पर्सनल लोन: ब्याज दरें, योग्यता शर्ते व अन्य जरू...

Vandana Punj
Vandana Punj

SBI MUDRA Loan- जानें एसबीआई ई-मुद्रा लोन क्या है और...

Vandana Punj
Vandana Punj