बिज़नेस लोन

भारत में व्यवसायों को बढ़ावा देती हैं ये गवर्नमेंट बिजनेस लोन स्कीम्स

भारत में व्यवसायों को बढ़ावा देती हैं ये गवर्नमेंट बिजनेस लोन स्कीम्स
Nikita
Nikita

आज जहां भारत एक आत्मनिर्भर देश की ओर बढ़ चला है। वहीं दूसरी तरफ हजारों व्यक्ति आत्मनिर्भर और आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनने के लिए खुद का बिजनेस शुरू करना चाहते है। जैसे हमें जिंदा रहने के लिए हवा-पानी, भोजन की आवश्यकता होती हैं ठीक वैसे ही किसी व्यवसाय को चलाने के लिए कौशल और पैसों की भी आवश्यकता होती है। जहां बैंक और NBFC बिजनेस लोन प्रदान करते हैं, वहीं भारत सरकार ने भी स्टार्टअप और मौजूदा व्यवसायों के विकास के लिए कई व्यवसायों योजनाएं बनाई हैं, जिनके बारे में आज हम आपको इस लेख में बताने वाले हैं….

1) 59 मिनट में MSME बिजनेस लोन 

छोटे व्यवसायों को अक्सर समय पर लोन प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, इस बात को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने नवंबर 2018 में MSME के लिए 59 मिनट में लोन सुविधा शुरू की जिसका नाम ‘PSB Loans in 59 Minutes’ रखा गया। यह माइक्रो, छोटे और मीडियम प्रकार के व्यवसायों के लिए सरकारी लोन योजनाओं में से एक है जो बिजनेस को आगे बढ़ाने में वित्तीय रूप से मदद करती है। 

विशेषताएं

  • इस योजना के तहत 5 करोड़ रुपये तक का लोन लिया जा सकता है।
  • इसकी ब्याज दरें 8.5% प्रति वर्ष से शुरू होती है।
  • यह लोन लेने के लिए कुछ भी गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं है।
  • यह लोन केवल 59 मिनट के अंदर स्वीकार हो जाता है और लोन राशि 8 दिनों के अंदर आपके अकाउंट में ट्रांसफर कर दी जाती है।
  • psbloansin59minutes.com एक ऑनलाइन मार्केटप्लेस है, जहां आप कई बिजनेस लोन ऑफर एक साथ देख सकते है और उनकी आपस में तुलना कर सकते है।

लोन के लिए कैसे आवेदन करें 

लोन के लिए अप्लाई करने के लिए आपको https://www.psbloansin59minutes.com/signup पर जाना होगा और मांगी गई सारी जानकारी को भरना होगा। 

ये भी पढ़ें: बिज़नेस के लिए है तुरंत पैसों की ज़रूरत? इन तरीकों से करें पूरी

2) मुद्रा लोन 

MUDRA का मतलब माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड है। भारत सरकार ने 08 अप्रैल 2015 को मुद्रा लोन योजना को पेश किया। यह भारत सरकार की एक पहल है जो देश के सभी नागरिकों को अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने या उस व्यवसाय को और बढ़ाने के लिए प्रदान किया जाता है। 

विशेषताएं

  • इस योजना में आपको 50,000 रुपये से 10 लाख रुपये तक का लोन मिल सकता है।
  • आपको कोलैटरल/ सिक्योरिटी के रूप में कुछ भी जमा करने की आवश्यकता नहीं है।
  • मुद्रा लोन की ब्याज दर आम तौर पर उस बैंक या लोन संस्थान पर निर्भर करती है जिससे आवेदक लोन ले रहा है। हालांकि सरकार ही मुद्रा लोन के लिए ब्याज दरों का पैरामीटर तय करती है। 
  • इस योजना को स्टार्टअप और छोटे उद्यमियों को दिया जाने वाले लोन पर सरकार गारंटर के रूप में खड़ी होती है। 
  • विभिन्न उद्देश्य के लिए मुद्रा लोन का इस्तेमाल किया जा सकता है जैसे: मशीनरी, कारोबार के लिए वाहन खरीदने के लिए मजदूरी देने के लिए अधिक लोगों को काम पर रखने या मार्केटिंग से अपने बिजनेस का प्रचार करने आदि के लिए। 

लोन के लिए कैसे आवेदन करें 

सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से बैंकों की कुछ आसान सी शर्तों के साथ बैंक से मुद्रा लोन लिया जा रहा है। 

ये भी पढ़ें: जानें किन कारणों से बिज़नेस लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट हो सकती है?

3) प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) 

2008-09 में इस योजना की स्थापना का उद्देश्य ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में बेरोजगारों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने, नए कारोबार की स्थापना के माध्यम से रोजगार को बढ़ावा देने के लिए आर्थिक मदद करना हैं।

विशेषताएं

  • मैन्युफैक्चरिंग यूनिट के लिए 50 लाख रुपये है। और सर्विस यूनिट के लिए प्रोजेक्ट कॉस्ट 20 लाख रुपये है। 
  • PMEGP के अंतर्गत सब्सिडी की दर:  सामान्य वर्ग के लिए – 15% (शहरी), 25% (ग्रामीण)
  • आप जो व्यवसाय शुरू करने वाले हैं उसकी लागत का 5% से 10% तक आपके हिस्से में आता हैं, इसके साथ ही विशेष (एससी/एसटी/ओबीसी/अल्पसंख्यक/महिला, शारीरिक रूप से विकलांग और  NRI आदि) के लिए – 25% (शहरी), 35% (ग्रामीण) बाकी बैंक द्वारा टर्म लोन के रूप में दिया जाता है, जिसे PMEGP लोन भी कहते हैं।
  • PMEGP योजना के तहत दी जाने वाली ब्याज दर और सब्सिडी हर बैंक/ लोन संस्थान में अलग-अलग हो सकती है।
  • बिजनेस मालिक, संस्थान, को-ऑपरेटिव सोसाइटी, चैरिटेबल ट्रस्ट व स्वयं सहायता समूह इस कार्यक्रम के पात्र हैं। 
  • 2008-09 में इसकी स्थापना के बाद से लगभग 7.8 लाख छोटे उद्यमों को 19,995 करोड़ रुपये की सब्सिडी के साथ लगभग  64 लाख व्यक्तियों के लिए परमानेंट एम्प्लॉयमेंट पैदा करने में सहायता मिली है।

आवेदन कैसे करें

आवेदक को वेब पोर्टल https://kviconline.gov.in/pmegpeportal/jsp/pmegponline.jsp पर आनलाईन आवेदन करना अनिवार्य है।

ये भी पढ़ें: जानें बिजनेस लोन पर टैक्स बेनिफिट का लाभ कैसे उठा सकते हैं?

4) एंटरप्रेन्योरशिप स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम (ESDP)

इस योजना का उद्देश्य समाज के विभिन्न वर्गों जैसे एससी, एसटी, महिलाओं, दिव्यांगों, और बीपीएल वर्ग में आने वाले लोगों को प्रेरणा और जागरूकता प्रदान करके एंटरप्रेन्योरशिप को एक कैरियर ऑप्शन के रूप में अपनाने के लिए प्रेरित करना है। 

विशेषताएं

  • यह मौजूदा MSME के विकास और नए कारोबार को प्रोत्साहित करता है, जिससे उत्पादकता बढ़ेगी और नई नौकरियों का विकास होगा।
  • कृषि-आधारित उत्पाद, खाद्य और फल। दूसरे कारोबार जैसे सिलाई ,बुनाई, ग्राफ़िक डिजाइनिंग, फोटो और वीडियो एडिटिंग और मैकेनिकल इंजीनियरिंग,आदि कुछ ऐसी इंडस्ट्री हैं जो इस योजना के तहत अपने कौशल को और बढ़ा सकेंगे।
  • या हम कहे सकते हैं कि यह योजना व्यवसाय में कौशल में सुधार और ज्ञान प्राप्त करने में सहायता करती है। 

कैसे आवेदन करें 

यह योजना सभी इच्छुक और मौजूदा उद्यमियों के लिए है। जो लोग आवेदन करना चाहते हैं वे नजदीकी MSME डेवलपमेंट इंस्टिट्यूट , MSME-टेक्नोलॉजी सेंटर से संपर्क कर सकते हैं। 

अन्य ब्लॉग

NEFT क्या है? NEFT का फुल फॉर्म और यह कैसे काम करता है? जानिए सबकुछ

आज के इस आर्टिकल में हम NEFT के प्रमुख पहलुओं पर चर्...

Nikita
Nikita
Difference Between IMPS, NEFT & RTGS: फुल फॉर्म, ट्रांजैक्शन लिमिट, फीस और सर्विस टाइमिंग के साथ जानिए सबकुछ

आजकल, एनईएफटी, आरटीजीएस और आईएमपीएस जैसे विभिन्न ऑनल...

Nikita
Nikita

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अपने कर्मचारियों...

Vandana Punj
Vandana Punj