सेविंग स्कीम

ELSS और PPF किसमें निवेश करने पर मिलेगा अधिक लाभ? जानें

ELSS और PPF किसमें निवेश करने पर मिलेगा अधिक लाभ? जानें
Adnan Ali
Adnan Ali

PPF लंबे समय से निवेश के लोकप्रिय विकल्पों में गिना जाता है, वहीं ELSS पर मिलने वाले रिटर्न और लाभों की वजह से ये भी खूब लोकप्रिय हो रहा है। अगर आप भी इन बचत योजनाओं में से किसी एक में निवेश करने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो ये लेख आपके लिए ही है।

ELSS क्या है?

इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (ELSS) एक तरह की म्यूचुअल फंड स्कीम है, जिसमें जमा पैसों को इक्विटी या स्टॉक मार्केट में निवेश किया जाता है। इसके तहत 1.5 लाख रु. तक के निवेश पर इनकम टैक्स सेक्शन 80C के तहत टैक्स में छूट का लाभ मिलता है। इसके अलावा ELSS की लॉक-इन अवधि कम होती है और इसमें किए गए निवेश पर अधिक रिटर्न भी मिलता है।

PPF क्या है?

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) एक सरकारी स्कीम है। इस योजना में निवेश किया गया पैसा सुरक्षित होता है और गारंटीड रिटर्न भी मिलता है। इस स्कीम में भी सेक्शन 80C के तहत टैक्स में 1.5 लाख तक की छूट का लाभ मिलता है। PPF पर मिलने वाली ब्याज दरें सरकार द्वारा हर तिमाही (हर तीन महीने में) तय की जाती हैं।

ELSS और PPF की तुलना

  • रिस्क: PPF एक सरकार समर्थित योजना है इसलिए इसमें रिस्क नहीं होता। वहीं दूसरी ओर म्यूचुअल फंड का एक प्रकार होने की वजह से ELSS में जोखिम होता है। ऐसे में अगर आप बाज़ार के उतार-चढ़ाव को झेल सकते हैं तो आपको इसमें निवेश करना चाहिए।
  • रिटर्न: अगर आप ELSS में लॉन्ग टर्म के लिए निवेश करते हैं, तो इसमें आपको अधिक लाभ मिलता है। पिछले कुछ वर्षों में ELSS योजनाओं में मिलने वाली लाभ की दर PPF से अधिक रही है। हालांकि, ELSS में मिलने वाला लाभ बाज़ार पर आधारित होता है इसलिए गारंटीड रिटर्न नहीं मिलता, जबकि PPF पर तय रिटर्न मिलता है क्योंकि इसकी ब्याज दरें पहले से ही पता होती हैं।
  • अवधि: PPF 15 साल की लॉक-इन अवधि के साथ आते हैं। वहीं ELLS की लॉक-इन अवधि 3 साल होती है।
  • निवेश राशि: PPF में न्यूनतम निवेश राशि 500 रु. है। हर साल में 1.5 लाख रु. तक की राशि जमा की जा सकती है। वहीं ELLS में आप न्यूनतम 500 रु. जमा कर सकते हैं। इसमें निवेश की अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है।
  • लिक्विडिटी:– ELLS में आप 3 साल की अवधि पूरी करने के बाद राशि निकाल सकते हैं। हालांकि, PPF की मैच्योरिटी अवधि 15 साल की होती है। वहीं सिर्फ विशेष परिस्थितियों में ही 5 साल के बाद राशि का पार्शल विड्रॉल किया जा सकता है।

ELSS या PPF : किसमें निवेश करना चाहिए?

PPF और ELSS दोनों ही स्कीम में निवेश कर आप टैक्स बचा सकते हैं। PPF में उन लोगों को निवेश करना चाहिए जो किसी भी तरह का जोखिम नहीं उठाना चाहते और निवेश में तय ब्याज प्राप्त करना चाहते हैं। वहीं अगर आप अधिक रिटर्न प्राप्त करना चाहते हैं और जोखिम उठाने के लिए तैयार हैं तो आपको ELSS से में निवेश करना चाहिए।

अन्य ब्लॉग

होम लोन प्री-पेमेंट करने से पहले इन बातों का ध्यान रखें

आमतौर पर अन्य लोन के मुकाबले होम लोन की राशि ज़्यादा ...

Adnan Ali
Adnan Ali
जानें होम लोन इंश्योरेंस क्या है और इसे करवाना क्यों ज़रूरी है?

घर खरीदने के लिए एक बार में बड़ी रकम जुटाना आसान नही...

Bharti
Bharti

पर्सनल लोन का इंटरेस्ट रेट सिक्योर्ड लोन के मुकाबले ...

Vandana Punj
Vandana Punj