बिज़नेस लोन

वर्किंग कैपिटल लोन और टर्म लोन में क्या अंतर है?

वर्किंग कैपिटल लोन और टर्म लोन में क्या अंतर है?
Bharti
Bharti

प्रत्येक बिज़नेस को चलाने के लिए और उसका विकास करने के लिए फंड की ज़रूरत होती है। इस ज़रूरत को पूरा करने के लिए बिज़नेस लोन लिए जाते हैं। बिज़नेस लोन कई तरह के होते हैं, जो बिज़नेस संबंधित अलग-अलग ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन किए जाते हैं। वर्किंग कैपिटल लोन और टर्म लोन भी बिज़नेस की अलग-अलग ज़रूरतों के लिए हैं। इस लेख में दोनों के बीच के अंतरों के बारे में बताया गया है।

ये भी पढ़ें: स्मॉल बिज़नेस लोन या लाइन ऑफ क्रेडिट? दोनों में बेहतर कौन-सा है?

वर्किंग कैपिटल लोन क्या है?

बिज़नेस के दिन-प्रतिदिन के खर्चों को पूरा करने के लिए वर्किंग कैपिटल लोन लिया जाता है। यह एक शोर्ट-टर्म लोन होता है जिसका इस्तेमाल बिज़नेस की तात्कालिक ज़रूरत को पूरा करने के लिए किया जाता है जैसे, कच्चा माल खरीदना, कर्मचारियों को सैलरी देना , आदि। यह लोन स्टार्टअप, MSME कंपनियों जैसी छोटी कंपनियों लिए डिज़ाइन किया गया है। वर्किंग कैपिटल लोन का इस्तेमाल निवेश करने, बिज़नेस का विस्तार करने या प्रोपर्टी खरीदने के लिए नहीं किया जा सकता।

टर्म लोन क्या है?

टर्म लोन का इस्तेमाल बिज़नेस संबंधित बड़े खर्चों जैसे बिज़नेस का विस्तार करने, मशीनरी और उपकरण खरीदने, ऑफिस का रेनोवेशन करने जैसे खर्चों को पूरा करने के लिए लिया जाता है। इसके अलावा आमतौर पर टर्म लोन 1 साल से 10 साल की अवधि के लिए दिए जाते हैं। चूंकि लोन का इस्तेमाल बड़े खर्चों को पूरा करने के लिए किया जाता है इसलिए लोन राशि भी अधिक होती है।

ये भी पढ़ें: बिल डिस्काउंटिंग और इन्वॉइस डिस्काउंटिंग क्या है?

वर्किंग कैपिटल लोन और टर्म लोन के बीच अंतर

  • लोन का इस्तेमाल: एक तरफ जहां वर्किंग कैपिटल लोन का इस्तेमाल बिज़नेस से संबंधित दिन-प्रतिदिन की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए किया जाता है। वहीं टर्म लोन का इस्तेमाल बिज़नेस का विस्तार करने जैसे उद्देश्यों को पूरा करने के लिए किया जाता है।
  • ब्याज दरें: टर्म लोन की भुगतान अवधि लंबी होने की वजह से इसकी ब्याज दरें वर्किंग कैपिटल लोन की तुलना में कम होती हैं।
  • लोन राशि: बिज़नेस संबंधित छोटे-मोटे खर्चों को पूरा करने के लिए वर्किंग कैपिटल लोन लिया जाता है इसलिए लोन राशि भी कम होती है। वहीं टर्म लोन का इस्तेमाल बड़े खर्चों को पूरा करने के लिए किया जाता है, इसलिए इसकी लोन राशि अधिक होती है।
  • भुगतान अवधि: कम लोन राशि होने की वजह से वर्किंग कैपिटल लोन की भुगतान अवधि कम होती है, जबकि टर्म लोन की भुगतान अवधि लंबी होती है।
  • लोन की प्रोसेसिंग: टर्म लोन के अंतर्गत अधिक राशि का लोन दिया जाता है, इसलिए लोन देने से पहले आवेदक की भुगतान क्षमता, उसका क्रेडिट स्कोर और बिज़नेस संबंधित जानकारी को चेक किया जाता है जिसमें लंबा समय लग जाता है। इसके विपरीत वर्किंग कैपिटल लोन शोर्ट-टर्म होते हैं और लोन राशि कम, इसलिए प्रोसेसिंग आसान होती है।

अन्य ब्लॉग

अधिकांश लोगों को लगता हैं कि18 वर्ष कि आयु होने के ब...

Nikita
Nikita

अगर आपका सिबिल स्कोर कम है, जिसकी वजह से लोन लेने मे...

Vandana Punj
Vandana Punj

कृषि लोन (Agriculture Loan) खेती से संबंधित कामों के...

Vandana Punj
Vandana Punj