क्रेडिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड बिल का बढ़ रहा है बोझ, इन तरीकों से जल्दी करें पेमेंट

क्रेडिट कार्ड बिल का बढ़ रहा है बोझ, इन तरीकों से जल्दी करें पेमेंट
Vandana Punj
Vandana Punj

अगर आप किन्हीं कारणों से कुछ महीनों के क्रेडिट कार्ड बिल का पेमेंट नहीं कर पाए हैं। ये बिल इक्ट्ठा हो कर अब बोझ बन गया है और आप परेशान हैं कि कैसे इनका भुगतान किया जाए, तो इसका आसान तरीका है। बस जरूरत है एक प्लान की और उस पर कायम रहने की। इस लेख में हमने कुछ ऐसे ही टिप्स बताएं हैं जिनकी मदद से आप अपने क्रेडिट कार्ड बिल का जल्दी भुगतान कर सकते हैं:

1. एक समय में एक कर्ज का भुगतान करें

अगर आपको एक से अधिक क्रेडिट कार्ड बिल/बकाया राशि का भुगतान करना है तो सभी कार्ड पर न्यूनतम राशि का भुगतान करें। ताकि पेनल्टी न भरनी पड़े। इसके बाद एक समय में किसी एक क्रेडिट कार्ड का पूरा बिल भरने की कोशिश करें। इसके लिए सबसे पहले उस कार्ड को चुनें जिसके बकाया राशि पर ज्यादा इंटरेस्ट लगता हो। या फिर आप स्नोबॉल मेथर्ड अपना सकते हैं यानी उस कार्ड को चुनें जिसका बकाया राशि या बिल कम हो, सबसे पहले उसका भुगतान करें।

2. न्यूनतम राशि से अधिक का भुगतान करें

अपना क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट चेक करें। यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड पर न्यूनतम शेष राशि का भुगतान करते हैं, तो आपको अपना बिल चुकाने में अधिक समय लगता है। लेकिन अगर आप न्यूनतम से अधिक का भुगतान करते हैं तो आपको ओवरऑल कम इंटरेस्ट का भुगतान करना होगा। इस जानकारी को आपके क्रेडिट कार्ड कंपनी को स्टेटमेंट शीट पर दिखाना चाहिए ताकि आप यह देख सके कि ये बिल कैसे लागू होता है।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट स्कोर के बिना भी मिल सकता है क्रेडिट कार्ड, जानें कैसे

3. डेब्ट कंसोलिडेशन करें

डेब्ट कंसोलिडेशन के तहत आप कई सारे कर्ज को चुकाने के लिए एक कर्ज ले सकते हैं। जिससे आपको हाई इंटरेस्ट रेट वाले अलग-अलग कर्ज के बजाए एक लोन की ईएम ही भरनी होगी। ये नया लोन आपको कम ब्याज दर पर मिल सकता है।

डेब्ट कंसोलिडेशन बैलेंस ट्रांसफर और होम इक्विटी के माध्यम से कर सकते हैं। हालांकि बैलेंस ट्रांसफर पर 3% से 5% तक का फीस लग सकता है। इसलिए बैलेंस ट्रांसफर तभी करवाएं जब इसे करवाने से आपको लोन पर लगने वाले इंटरेस्ट से अधिक बचत हो।

अगर आपके पास इक्विटी है तो आप इसका इस्तेमाल अपने कार्ड के भुगतान के लिए कर सकते हैं। आमतौर पर होम इक्विटी आपके कार्ड पर लगने वाले शुल्क से कम इंटरेस्ट रेट पर ऑफर होता है। हालांकि यह ध्यान रखें कि डेब्ट कंसोलिडेशन करने के बाद आपको अपने खर्चों पर नियंत्रण रखना होगा। ताकि नए लोन का समय से भुगतान कर पाएं।

4. अपने खर्चों पर ध्यान दें

अपने मंथली खर्चों को कैटेगरीवाइज जैसे- ग्रॉसरी, ट्रांसपोर्टेशन, हाऊसिंग और एंटरटेनमेंट आदि में बांटना शुरू कर दें। इस काम में क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट आपकी मदद कर सकता है। इसके बाद देखें कि कहां आप अपने खर्चों में कटौती करके बचत कर सकते हैं। फिर इस बचत वाली राशि को कर्ज भुगतान में इस्तेमाल करें।

अधिक बचत करने के लिए आप यूपीआई की जगह कैश का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे आप फिजूलखर्ची करने से बच सकते हैं। दूसरा कार्ड पेमेंट पर किसी तरह के एक्सट्रा चार्ज से भी बच सकते हैं। साथ ही ये जान सकते हैं एक माह में आपको कितना पैसा प्राप्त हुआ और कितना खर्च हुआ। इस तरह छोटी-छोटी फाइनेंशियल प्लानिंग करके आप बचत कर सकते हैं।

अन्य ब्लॉग

क्रेडिट कार्ड का चुनाव करते समय इन गलतियों से रहें सावधान

क्रेडिट कार्ड हमारी दैनिक वित्तीय आदतों का एक अभिन्न...

Nikita
Nikita
अपने लिए बेस्ट टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहते हैं? इन बातों का ध्यान रखना है ज़रूरी

भविष्य में क्या होगा? इसका पता नहीं, लेकिन एक समझदार...

Bharti
Bharti
डीमैट अकाउंट क्या है और इससे म्यूचुअल फंड खरीदने के क्या फायदे हैं

आज के समय में वित्तीय सुरक्षा के लिए अलग-अलग निवेश व...

Vandana Punj
Vandana Punj