क्रेडिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट के क्या हो सकते हैं परिणाम

क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट के क्या हो सकते हैं परिणाम
Nikita
Nikita

क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करना आसान हो गया है जिसके लिए आप बाद में भुगतान कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल पर आपको कैशबैक,रिवॉर्ड पॉइंट और ऑफर्स जैसे कई लाभ मिलते हैं। पर क्या हो यदि आपकी नौकरी छूट जाए, बिजनेस में लॉस या मेडिकल इमरजेंसी जैसी समस्याओं के कारण या जाने-अनजाने आप अपने  क्रेडिट कार्ड का बिल समय पर चुकाने में चूक जाए?

आज के इस लेख में हम बात करेंगे कि क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट क्या और कब होता और जब आप अपने कार्ड पर डिफॉल्ट करते हैं तो आपको किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है।

क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट क्या है और कब होता है?

अगर आप लगातार 6 महीने या उससे अधिक समय तक अपने क्रेडिट कार्ड के पूरे बिल या न्यूनतम बिल का भुगतान नहीं करते तो आपका क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट माना जाएगा। आमतौर पर, लगातार 6 भुगतान पर चूक के बाद कार्ड जारी करने वाले बैंक या कंपनी द्वारा आपको डिफॉल्ट नोटिस भेजा जाता है। यदि आप खुदको ज्यादा ब्याज देने और डिफॉल्टर के टैग से बचाना चाहते हैं तो क्रेडिट कार्ड बिल का समय पर और पूरा भुगतान करना महत्वपूर्ण है।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड के कर्ज़ में फंस गए हैं? इन तरीकों की मदद से पाएं छुटकारा

क्रेडिट स्कोर पर पड़ता हैं नकारत्मक प्रभाव 

कार्ड जारी करने वाले बैंक या कंपनी हमेशा आपके क्रेडिट कार्ड की डिटेल्स CIBIL और एक्सपीरियन जैसे क्रेडिट ब्यूरो को देते हैं। जिसमे आपके क्रेडिट कार्ड डिफॉल्ट का भी जिक्र होगा। भुगतान में चूक आपके क्रेडिट स्कोर के लिए नकारत्मक साबित होगी जिससे आपको कम क्रेडिट स्कोर जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। परिणामस्वरूप आपको भविष्य में लोन या क्रेडिट कार्ड मिलने में मुश्किल आ सकती है। इसके साथ ही बैंक और लोन संस्थान आपको भविष्य में करने वाले भुगतानों में डिफॉल्ट के जोखिम के रूप में देखते हैं इसलिए कम क्रेडिट स्कोर होने के कारण अधिक ब्याज दरें और कम क्रेडिट लिमिट भी हो सकती है। 

होगी कानूनी कार्रवाई

यदि आप लंबे समय तक अपने क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान नहीं करते हैं तो क्रेडिट कार्ड जारी करने वाले बैंक या कंपनी आपको डिफॉल्टर का टैग दे सकते है। आप पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी और बकाया राशि की वसूली के लिए बैंक आपके खिलाफ सिविल मुकदमा दायर कर सकता है और आप पर आपराधिक मामला भी दर्ज कर सकता है। इसलिए, अधिक ब्याज शुल्क के साथ डिफॉल्टर कहलाने और किसी भी कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए अपने क्रेडिट कार्ड बिलों का समय पर भुगतान करें।

लेट पेमेंट फीस और अधिक ब्याज शुल्क

यदि आप तय न्यूनतम राशि का भुगतान समय पर नहीं करते हैं, तो आपसे लेट पेमेंट फीस ली जाती है। इसके अलावा, कुछ कार्ड जारी करने वाले बैंक या कंपनी भुगतान में चूक के मामले में क्रेडिट कार्ड पर लागू ब्याज दर बढ़ा देते हैं। जिससे बकाया राशि बढ़ जाती है। इसलिए यदि आप लेट पेमेंट फीस और अधिक ब्याज शुल्क जैसे अन्य भुगतानों से बचना चाहते हैं तो क्रेडिट कार्ड भुगतान में चूक न करें और समय पर क्रेडिट बिलों को भरें। 

ये भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड पर EMI कंवर्जन का लाभ उठाने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

आपका क्रेडिट कार्ड हो सकता हैं फ्रीज या ब्लॉक

क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता आपके कार्ड को टेम्पररी (कुछ समय के लिए) फ्रीज भी कर सकते है या डिफॉल्ट के मामले में इसे पूरी तरह से ब्लॉक कर सकते है। कार्ड ब्लॉक होने के बाद कार्ड के जरिए किसी भी ट्रांजैक्शन को रोकने के लिए बैंक आपके क्रेडिट कार्ड को ब्लॉक कर देगा। आप कोई भी खरीदारी करने के लिए कार्ड का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। जब तक आप पूरी  बकाया राशि का भुगतान नहीं कर देते, तब तक आप कार्ड का फिर से इस्तेमाल नहीं कर सकते।

निष्कर्ष 

आपके क्रेडिट कार्ड से भुगतान में चूक करने के कई परिणाम हो सकते हैं, जिनमें लेट पेमेंट चार्ज, ब्याज शुल्क, आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव और कानूनी कार्रवाई आदि जैसे परिणाम शामिल हैं। इसलिए, समय पर भुगतान करना और अपने क्रेडिट कार्ड को जिम्मेदारी से इस्तेमाल करना आवश्यक है। यदि आप वित्तीय समस्या का सामना कर रहे हैं, तो अपने बैंक से बात करें उनको अपनी परेशानी बताए जिसमे बैंक आपकी मदद करेगा और कोशिश करें की आप अपने क्रेडिट कार्ड का भुगतान समय पर ही करे। 

 

अन्य ब्लॉग

SBI MUDRA Loan- जानें एसबीआई ई-मुद्रा लोन क्या है और...

Vandana Punj
Vandana Punj

कैश क्रेडिट (Cash Credit) एक शॉर्ट टर्म लोन होता है,...

Vandana Punj
Vandana Punj

PAN Card Form- जानें पैन कार्ड फॉर्म 49A और 49AA क्य...

Vandana Punj
Vandana Punj