क्रेडिट स्कोर

रेगुलरली अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करने के क्या फायदें हैं? जानें

रेगुलरली अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करने के क्या फायदें हैं? जानें
Bharti
Bharti

लोगों के बीच एक गलतफहमी है कि क्रेडिट रिपोर्ट चेक करने से उनका क्रेडिट स्कोर गिर जाएगा। जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है। जबकि अपना क्रेडिट स्कोर बेहतर बनाने के लिए ज़रूरी कार्यों में से एक, रेगुलरली अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करते रहना है। इसके फ़ायदे इस लेख में बताएं गए हैं।

क्रेडिट रिपोर्ट में गलतियाँ जानें

बैंक अपने ग्राहकों की जानकारी क्रेडिट ब्यूरो को देते हैं और उसी के आधार पर ब्यूरो क्रेडिट रिपोर्ट बनाते हैं। कभी-कभी बैंक, क्रेडिट ब्यूरो द्वारा गलत जानकारी आपकी क्रेडिट रिपोर्ट (Credit Report) में दर्ज हो जाती है, जिसका क्रेडिट स्कोर पर गलत प्रभाव पड़ सकता है।

अगर आप रेगुलरली अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करते हैं, तो इस तरह की गलत जानकारी आपकी नज़र में आ जाएगी। ऐसी जानकारी रिपोर्ट में मिलने से क्रेडिट ब्यूरो को सूचित करें, ताकि उसमें सुधार हो सके।

आइडेंटिटी थेफ़्ट से बचें

आइडेंटिटी थेफ़्ट का मतलब है किसी और व्यक्ति की जानकारी का उपयोग कर के उसके नाम पर लोन या क्रेडिट कार्ड लेना या कोई अन्य फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन करना। अगर आपके नाम पर धोखेबाज़ी से कोई लोन या क्रेडिट कार्ड लेता है, तो समय-समय पर क्रेडिट रिपोर्ट चेक करने से आपको इसका पता चल जाएगा, क्योंकि क्रेडिट रिपोर्ट में व्यक्ति की सभी क्रेडिट डिटेल्स होती हैं।

ये भी पढ़ें: आपके क्रेडिट रिपोर्ट में ये गलतियां हो सकती हैं। ऐसे करें ठीक

गैर-ज़रूरी हार्ड इन्क्वायरी

जब भी लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करते हैं तो बैंक क्रेडिट ब्यूरो से आपकी क्रेडिट रिपोर्ट मांगता है, इसे हार्ड-इन्क्वायरी कहा जाता है। जितनी बार भी आपके लिए हार्ड-इन्क्वायरी होती है उतनी बार आपका क्रेडिट स्कोर कुछ पॉइंट कम हो जाता है।

मतलब, कम समय में कई बार लोन के लिए अप्लाई करने से आपके स्कोर में भारी गिरावट आ सकती है। इसलिए, किसी भी लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करने से पहले, अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करने से आपको ये पता चल जाएगा कि आप उसके लिए योग्य हैं या नहीं।

ये भी पढ़ें: क्रेडिट स्कोर अच्छा होने के बावजूद रिजेक्ट हो गया लोन एप्लीकेशन? जानें कारण

क्रेडिट स्कोर के आधार पर विशेष ऑफर पाएं

जब भी आप क्रेडिट ब्यूरो या फाइनेंशियल मार्केट पोर्टल पर अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करते हैं, तो ये प्लेटफार्म आपकी क्रेडिट रिपोर्ट का एनालिसिस कर आपको लोन और क्रेडिट कार्ड ऑफर देते हैं। इससे लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए अपनी योग्यता का अंदाज़ा भी आपको लग जाएगा, और आप इन ऑफर के आधार पर अन्य बैंकों से भी अच्छी डील के लिए सौदेबाज़ी कर सकते हैं।

 

अन्य ब्लॉग

NEFT क्या है? NEFT का फुल फॉर्म और यह कैसे काम करता है? जानिए सबकुछ

आज के इस आर्टिकल में हम NEFT के प्रमुख पहलुओं पर चर्...

Nikita
Nikita
Difference Between IMPS, NEFT & RTGS: फुल फॉर्म, ट्रांजैक्शन लिमिट, फीस और सर्विस टाइमिंग के साथ जानिए सबकुछ

आजकल, एनईएफटी, आरटीजीएस और आईएमपीएस जैसे विभिन्न ऑनल...

Nikita
Nikita

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अपने कर्मचारियों...

Vandana Punj
Vandana Punj